Thursday, 25 February 2016

बेख़्याली में

भीड़ से कट के न बैठा करो तन्हाई में
बेख़्याली में कई शहर उजड़ जाते हैं
निदा फ़ाज़ली

No comments:

Post a comment